Thursday, April 9, 2009

इक इंतजार तुम्हारा.....

समय के इस मोड़ पर
जाने कबसे मैं बैठी
सोच रही हूँ।

किस ओर आगे बढूँ,
सभी दिशायें तो मैं
तक रही हूँ।

हवाएं भी भटका देती है,
कभी-कभी, जिधर देखो वहीँ-से
लगता बह रही हो।

सूरज के किस किरण को
पकड़ के आगे बढूँ, आंखों में
जब सब चुभ रही हो।

पशोपेश में तो हूँ, राह फ़िर भी
चुन लुंगी मैं, मन इतना तो
दृढ़ हो रहा है।

रुकी हूँ तो बस तुम्हारे लिए,
इक इंतजार तुम्हारा दिल अब भी
कर रहा है।

4 comments:

अनिल कान्त : said...

दिल ऐसा ही होता है ...और मोहब्बत भी
बहुत प्यारा लिखती हैं आप

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

कौतुक said...

इंतजार की अभिव्यक्ति अच्छी है.

बधाई.

विनय said...

सूरज की किरने पकड़ना एक सुखद काव्य अनुभूति देता है!

Piyush Mandirwar said...

Hi Vandana... hope u are doing good in health and memory:-) this is piyush(ranjan)BIT. luckily got to catch you here on ur blog... all the compositions are really really wonderful...